व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? परिभाषा व उदाहरण | Vyakti Vachak Sangya Kise Kahate Hain

स्वागत है दोस्तों आज की नई पोस्ट व्यक्तिवाचक संज्ञाvyakti Vachak Sangya में, मैं आज बात करने वाला हूं की व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? (vyakti  Vachak Sangya kise kahate hain) संज्ञा की परिभाषा, उदाहरण व भेद के माध्यम से आज हम इस पोस्ट को पढ़ेंगे। तो हम देरी न करके इस पोस्ट को समझने की कोशिश करते हैं।

आज की यह पोस्ट मैंने इस प्रकार से तैयार की है कि चाहे आप जिस भी क्लास में पढ़ रहे हैं आप इसे आसानी से पढ़कर समझ सकते हैं इसमें मैं परीक्षा में आए हुए सभी व्यक्तिवाचक संज्ञा (vyakti  Vachak  Sangya) को शामिल किया है। हो सकता है आपकी भी परीक्षा में इन्हीं में से ही पूछा जाए।

व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा – Vyakti Vachak Sangya Ki Paribhasha

जिस शब्द से किसी एक विशेष व्यक्ति या वस्तु का बोध होता है उसे व्यक्ति वाचक संज्ञा कहते हैं।
व्यक्तिवाचक संज्ञा सदैव दृश्य और एक वचन होती है।
नोट: व्यक्तिवाचक संज्ञा में लिंग, वचन में कोई परिवर्तन नहीं होता है।
जैसे: प्रयाग, संध्या, अंकित, हिमालय, राम, हिंदुस्तान आदि।

व्यक्तिवाचक संज्ञा कौन-कौन से होती हैं?

व्यक्तियों के नाम : राम, रहीम, कृष्णा, महात्मा बुद्ध, सूरज, राहुल, हजरत, मोहम्मद, ईसा मसीह आदि।
फलों के नाम : आम, अमरूद, सेब, संतरा, अंगूर, केला, खरबूजा, लीची आदि।
ग्रंथो के नाम : रामायण, रामचरितमानस, कुरान, पद्मावत, कामयनी, साकेत आदि।
समाचार पत्रों के नाम : हिंदुस्तान, दैनिक जागरण, नवभारत टाइम्स, अमर उजाला आदि।
नदियों के नाम : गंगा, यमुना, गोदावरी, कृष्णा, कावेरी, सतलज, सिंध आदि।
नगरों के नाम : लखनऊ, चेन्नई, मुंबई, दिल्ली, गुजरात, वाराणसी, आगरा, जयपुर, कानपुर, गोवा, पटना, कोलकाता, इंदौर आदि।

देवी देवताओं के नाम
• भाषाओं के नाम
• पहाड़ों के नाम
• खेलों के नाम
• दोनों के नाम
• दिशाओं के नाम
• महीनों के नाम
• त्योहारों के नाम

ऊपर दिए गए इन शब्दों से एक ही वस्तु का बोध होता है अतः यह सभी व्यक्तिवाचक संज्ञा शब्द हैं जबकि व्यक्तिवाचक संज्ञा एक से अधिक का बोध करने लगती है तो वह जातिवाचक संज्ञा हो जाती है।

जैसे : आज के युग में जयचंदो की कमी नहीं है यहां जयचंदो किसी व्यक्ति का नाम न होकर अहंकार या अधर्मी व्यक्तियों की जाति का बोधक है।

जातिवाचक संज्ञा और व्यक्तिवाचक संज्ञा में अंतर

जातिवाचक संज्ञा : कवि, स्त्री, नदी, नगर, पर्वत
व्यक्तिवाचक संज्ञा : सूरदास, राधा, यमुना, दिल्ली, हिमालय

व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण वाक्य – Vyakti Vachak Sangya Ke Udaharan

आगरा में ताजमहल है।
इस वाक्य में आगरा और ताजमहल दोनों ही व्यक्ति वाचक संज्ञा है क्योंकि आगरा और ताजमहल सिर्फ एक ही हैं।

विजय कश्मीर घूमने गया है।
इस वाक्य में विजय और कश्मीर दोनों ही व्यक्ति वाचक संज्ञा है क्योंकि विजय और कश्मीर एक स्पेसिफिक का नाम है।

महात्मा गांधी को बापू कहते हैं।
महात्मा गांधी का नाम सुनते ही हमें सिर्फ एक ही व्यक्ति का ख्याल आता है इसी कारण से या भी व्यक्ति वाचक संज्ञा है।

मैं लखनऊ में रहता हूं।
इस बात में लखनऊ का नाम सुनते हमें उत्तर प्रदेश की राजधानी का पता चलता है क्योंकि दूसरा कोई लखनऊ नहीं है इसी कारण यह भी व्यक्तिवाचक संज्ञा होगी।

  • अंकित प्रयागराज गया है।
  • महात्मा गांधी को बापू कहते हैं।
  • भारत की राष्ट्रभाषा हिंदी है।
  • सुमित क्रिकेट खेलता है।
  • भारतीय संविधान भीमराव अंबेडकर जी ने लिखा है।
  • हिंदुस्तान हमारा देश है।
  • इंडिया गेट दिल्ली में है।
  • लाल किला दिल्ली में है। 
  • भारत का सबसे पुराना शहर वाराणसी है।
  • भारत की राजधानी नई दिल्ली है।
  • मेरा दोस्त अमेरिका में रहता है।
  • आम फलों का राजा है।
  • मैं भारत में रहता हूं।
  • उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ है।
  • भारत की जनसंख्या सबसे तेज बढ़ रही है।
  • रूपांशु गोवा घूमने गया है।
  • गंगा देश की सबसे पवित्र नदी है।
  • जयपुर को पिंक सिटी के नाम से जानते हैं।
  • इंदौर भारत का सबसे स्वच्छ शहर है।
  • बिहार की राजधानी पटना है।
  • पाकिस्तान की राजधानी लाहौर है।
  • अलीगढ़ तालों के लिए प्रसिद्ध है।
  • सचिन पतंग उड़ा रहा है।
  • राजेश पढ़ाई कर रहा है
  • मैं दिल्ली में रहता हूं।
  • हम सब भारत देश के निवासी हैं।
  • हमारा भारत देश महान है।

निष्कर्ष

दोस्तों यदि आप किसी भी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो व्यक्तिवाचक संज्ञा (vyakti Vachak Sangya) यहीं से ही पूछे जाएंगे आपको धैर्य के साथ इस पोस्ट को पढ़ाना है। मैं इस पोस्ट को परीक्षा की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण तैयार किया है या चैप्टर देखने में काफी बड़ा लगता है लेकिन या चैप्टर इतना बड़ा नहीं है जितना आप सोच रहे हो आप बस एक बार थोड़ा सा समझने की जरूरत है बाकी तो यह चैप्टर आपको क्लियर हो जाएगा।

जी हां दोस्तों मैं इस पोस्ट में हिंदी के व्याकरण के संज्ञा शब्दों को बताने के संपूर्ण कोशिश की है यदि आप संज्ञा अन्य भेद को और विस्तार से पढ़ना चाहते हैं तो आप मुझे कमेंट के माध्यम से बताएं मैं आपको संज्ञा के अन्य भेद को अलग से किसी अन्य पोस्ट के माध्यम से लेकर आऊंगा जब तक के आप इस पोस्ट को कंप्लीट कर लें।

स्टूडेंट यदि आपको व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? (vyakti Vachak Sangya kise kahate hain) कि यह पोस्ट समझ में आई है तो आप मेरे द्वारा बनाई गई अन्य पोस्ट को पढ़ सकते हैं। मैं संपूर्ण हिंदी व्याकरण को बताया है जाकर आप हिंदी व्याकरण को बिल्कुल ही आसान भाषा में पढ़ सकते हैं।

यदि आपको व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं (vyakti Vachak Sangya kise kahate hain) या संज्ञा की परिभाषा भेद व उदाहरण यदि आपको किसी भी प्रकार की इस पोस्ट में कोई कमी लगती है या हमें आप कोई सूचना देना चाहते हैं तो आप हमें अवश्य दें मैं आपके बहुमूल्य विचार का इंतजार करूंगा धन्यवाद।

Leave a Comment