तत्पुरुष समास की परिभाषा, उदाहरण व भेद | Tatpurush Samas Kise Kahate Hain

स्वागत है दोस्तों आज की नई पोस्ट तत्पुरुष समास (Tatpurush Samas) में आज इस पोस्ट के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे की तत्पुरुष समास किसे कहते हैं?(Tatpurush Samas kise Kahate Hain) तत्पुरुष समास के कितने भेद होते हैं? तथा साथी में तत्पुरुष समास (Tatpurush Samas) के कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण के माध्यम से इस संपूर्ण पोस्ट को पढ़ेंगे।

समास हिंदी व्याकरण का एक महत्वपूर्ण अंग है हर परीक्षा में समास से सवाल पूछे जाते हैं आज हम महत्वपूर्ण टॉपिक तत्पुरुष समास की बात करने वाले हैं। तो देरी न करते हुए जानते हैं कि तत्पुरुष समाज किसे कहते हैं? (Tatpurush Samas Kise Kahate Hain) तत्पुरुष की परिभाषा, भेद व उदाहरण के साथ

Tatpurush Samas Kise Kahate Hain

Table of Contents

तत्पुरुष समास की परिभाषा | Tatpurush Samas Ki Paribhasha

जिस समास पद में उत्तर पद प्रधान होता है तथा दोनों पदों के मध्य कारक विभक्ति का लोप रहे वहां पर तत्पुरुष समास होता है।

पदों की प्रधानता के आधार पर यह द्वितीय पद प्रधान समास होता है क्योंकि तत्पुरुष समास की विभक्ति का लिंग, वचन द्वितीय शब्द के कारण परिवर्तन होता है।

जैसे : 
       जेब-कतरा - जेबको कतरने वाला
       मनोहर - मन को हरने वाला
       गृहागत - घर को आया हुआ
       राजभाषा - राज्य की भाषा
       जन्मांधा - जन्म से अंधा

तत्पुरुष समास के भेद | Tatpurush Samas Ke Bhed

तत्पुरुष समास के 6 भेद होते हैं जो निम्नलिखित हैं।

1. कर्म तत्पुरुष समास
2.करण तत्पुरुष समास
3. संप्रदान तत्पुरुष समास
4. अपादान तत्पुरुष समास
5. संबंध तत्पुरुष समास
6. अधिकरण तत्पुरुष समास

तत्पुरुष समास के उदाहरण | Tatpurush Samas Ke Udaharan

समाससमास विग्रह
घुड़सवारघोड़े पर सवार
वनवासवन में वास
दही बड़ादही में डूबा हुआ बड़ा
गंगाजलगंगा का जल
पापमुक्तपाप से मुक्त
कन्यादानकन्या का दान
ऋणमुक्तऋण से मुक्त
रामचरित्रराम का चरित्र
पद भ्रष्ट पद से भ्रष्ट
रसोई घररसोई के लिए घर
स्वर्गवासीस्वर्ग में बसने वाला
समाससमास विग्रह
तुलसीकृततुलसी के द्वारा रचित
प्रयोगशालाप्रयोग के लिए शाला
धर्मांधधर्म से अंधा
सभा भवनसभा के लिए भवन
रत्नजड़ितरत्नों से जड़ित
दिल तोड़दिल को तोड़ने वाला
मनोहरमन को हारने वाला
कृष्णश्रितकृष्ण को आश्रित
पाकिटमारपाकिट को मारने वाला
नेत्रहीननेत्र से हीन
रामराज्यराम का राज्य

कर्म तत्पुरुष समास किसे कहते हैं? | Karm Tatpurush Samas

कर्म तत्पुरुष समास की परिभाषा

जिस तत्पुरुष समास में कर्म कारक की विभक्ति (को) का लोप हुआ हो वहां कर्म तत्पुरुष समास होता है। इसे द्वितीय तत्पुरुष समास भी कहते हैं।

कर्म तत्पुरुष समास के उदाहरण

समाससमास विग्रह
माखनचोरमाखन को चुराने वाला
वनगमनवन को गमन करने वाला
चिड़ीमारचिड़ियों को मारने वाला
दिलतोड़दिल को तोड़ने वाला
मोक्षप्राप्तमोक्ष को प्राप्त
मनोहरमन को हारने वाला
पाकिटमारपाकिट को मारने वाला
समाससमास विग्रह
अग्निभक्षीअग्नि को भक्षित करने वाला
तिलचट्टातेल को चाटने वाला
नरभक्षीनर को भक्षित करने वाला
गिरहकाटगिरह को काटने वाला
प्राप्तोदकउदक को प्राप्त
गगनचुंबीगगन को चूमने वाला
कमरतोड़कमर को तोड़ने वाला
सुखप्राप्तसुख को प्राप्त करने वाला

करण तत्पुरुष समास किसे कहते हैं? | Karan Tatpurush Samas

करण तत्पुरुष समास की परिभाषा

जिस तत्पुरुष समास में करण कारक की विभक्ति (के द्वारा) या ‘से‘ का लोप हुआ हो वहां करण तत्पुरुष समास होता है। इसे तृतीय तत्पुरुष समास भी कहते हैं।

करण तत्पुरुष समास के उदाहरण | Karan Tatpurush Ke Udaharan

समाससमास विग्रह
रेलयात्रारेल के द्वारा यात्रा
आंखोंदेखीआंखों के द्वारा देखी हुई
नेत्रहीननेत्र से हीन
धर्मांधधर्म से अंधा
रसभरीरस से भरी हुई
रोगग्रस्तरोग से ग्रस्त
तुलसीकृततुलसी द्वारा कृत
श्रमसाध्यश्रम से साध्य
समाससमास विग्रह
पददलितपद से दलित
गुणयुक्तगुण से युक्त
रत्नजड़ितरत्नों से जड़ित
रेखांकितरेखा से अंकित
हस्तलिखितहाथ के द्वारा लिखित
मेघाच्छन्नमेघा से आछन्न (घिरा हुआ)
करुणापूर्णकरुणा से पूर्ण
शोकाकुलशौक से आकुल

संप्रदान तत्पुरुष समास किसे कहते हैं? | Sambandh Tatpurush Samas

संप्रदान तत्पुरुष समास की परिभाषा

जिस तत्व समास में संप्रदान कारक की विभक्ति “के लिए” का लोप हुआ हो वहां संप्रदान तत्पुरुष समास होता है। इसे चतुर्थी तत्पुरुष समास भी कहते हैं।

संप्रदान तत्पुरुष समास के उदाहरण | Sambandh Tatpurush Ke Udaharan

समाससमास विग्रह
रेलयात्रारेल के द्वारा यात्रा
आंखोंदेखीआंखों के द्वारा देखी हुई
नेत्रहीननेत्र से हीन
धर्मांधधर्म से अंधा
रसभरीरस से भरी हुई
रोगग्रस्तरोग से ग्रस्त
तुलसीकृततुलसी द्वारा कृत
श्रमसाध्यश्रम से साध्य
समाससमास विग्रह
पददलितपद से दलित
गुणयुक्तगुण से युक्त
रत्नजड़ितरत्नों से जड़ित
रेखांकितरेखा से अंकित
हस्तलिखितहाथ के द्वारा लिखित
मेघाच्छन्नमेघा से आछन्न (घिरा हुआ)
करुणापूर्णकरुणा से पूर्ण
शोकाकुलशौक से आकुल

संप्रदान तत्पुरुष समास किसे कहते हैं? | Sampradan Tatpurush Samas

संप्रदान तत्पुरुष समास की परिभाषा | Sampradan Tatpurush Ke Udaharan

जिस तत्व समास में संप्रदान कारक की विभक्ति “के लिए” का लोप हुआ हो वहां संप्रदान तत्पुरुष समास होता है। इसे चतुर्थी तत्पुरुष समास भी कहते हैं।

समाससमास विग्रह
रसोईघररसोई के लिए घर
विधानसभाविधान के लिए सभा
देशभक्तिदेश के लिए भक्ति
शिक्षालयशिक्षा के लिए आलय
पुस्तकालयपुस्तकों के लिए आलय
राहखर्चराह के लिए खर्च
लोकसभालोक के लिए सभा
समाससमास विग्रह
गोशालागो के लिए शाला
सभाभवनसभा के लिए भवन
मार्गव्ययमार्ग के लिए व्यय
सत्याग्रहसत्य के लिए आग्रह
गुरुदक्षिणागुरु के लिए दक्षिण
आवेदनपत्रआवेदन के लिए पत्र
सचिवालयसचिवों के लिए आलय
हवनसामग्रीहवन के लिए सामग्री

अपादान तत्पुरुष समास किसे कहते हैं? | Apadan Tatpurush Samas

अपादान तत्पुरुष समास की परिभाषा

जिस तत्पुरुष समास में अपादान कारक की विभक्ति “से” (अलग होना) का लोप हुआ हो वहां अपादान तत्पुरुष समास होता है। इसे पंचमी तत्पुरुष समास भी कहते हैं।

अपादान तत्पुरुष समास के उदाहरण | Apadan Tatpurush Samas Ke Udaharan

समाससमास विग्रह
पापमुक्तपाप से मुक्त
कामचोरकम से जी चुराने वाला
देशनिकालदेश से अलग करना
धनहीनधन से हीन
बलहीनबाल से हीन
ऋणमुक्तऋण से मुक्त
दोषमुक्तदोष से मुक्त
समाससमास विग्रह
लोकोत्तरलोक से उत्तर/परे
पदभ्रष्टपद से भ्रष्ट
धर्मविमुखधर्म से अलग होना
व्ययमुक्तव्यय से मुक्त
जन्मांधजन्म से अंधा
कर्मविमुखकर्म से विमुख
चिंतामुक्तचिंता से मुक्त
जातिभ्रष्टजाति से भ्रष्ट

संबंध तत्पुरुष समास किसे कहते हैं? | Sambandh Tatpurush Samas

संबंध तत्पुरुष समास की परिभाषा

जिस तत्पुरुष समास में संबंध कारक की विभक्ति “का, की, के” का लोप होता है तो वहां पर संबंध तत्पुरुष समास होता है इसे षष्ट तत्पुरुष समास भी कहते हैं।

संबंध तत्पुरुष समास के उदाहरण | Sambandh Tatpurush Ke Udaharan

समाससमास विग्रह
राष्ट्रपतिराष्ट्र का पति
सेनानायकसेना का नायक
गंगाजलगंगा का जल
देशसेवादेश की सेवा
देवालयदेव का आलय
वीरपुत्रवीर का पुत्र
सभापतिसभा का पति
समाससमास विग्रह
सूर्योदयसूर्य का उदय
स्वर्णघरस्वर्ण का घर
सूतपुत्रसूत का पुत्र
राज्यसभाराज्य की सभा
कन्यादानकन्या का दान
वनमालीवन का माली
आमरसआम का रस
आमचूर्णआम का चूर्ण

अधिकरण तत्पुरुष समास किसे कहते हैं? | Adhikaran Tatpurush Samas

अधिकरण तत्पुरुष समास की परिभाषा

जिस तत्पुरुष समास में अधिकरण कारक की विभक्ति “मैं, पै, पर” का लोप होता है तो वहां पर अधिकरण तत्पुरुष समास होता है। इसे सप्तमी तत्पुरुष समास भी कहते हैं।

अधिकरण तत्पुरुष समास के उदाहरण | Adhikaran Tatpurush Samas Ke Udaharan

समाससमास विग्रह
वनवासवन मे वास
प्रेममगनप्रेम में मगन
ग्रामवासग्राम मे वास
कविश्रेष्ठकवियों में श्रेष्ठ
पुरुषसिंहपुरुषों में सिंह
शिलालेखशिला पर लेख
सरदर्दसर में दर्द
समाससमास विग्रह
गृहप्रवेशगृह में प्रवेश
ध्यानमग्नध्यान में मग्न
जीवदयाजीवो पर दया
नगरप्रवेशनगर में प्रवेश
नरोत्तमनारों में उत्तम
कार्यदक्षकार्य में दक्ष
स्वर्गवासीस्वर्ग में बसने वाला

नञ् तत्पुरुष समास | Nan Tatpurush Samas

इस समास में पूर्वपद संस्कृत का ‘अ’, ‘अन्’ तथा उर्दू का ‘ना’ उपसर्ग होते हैं जो नकारात्मक अर्थ प्रकट करते हैं।

नञ् तत्पुरुष समास के उदाहरण | Nan Tatpurush Samas Ke Udaharan

अनपढ़अनजानअकार्यअनाथ
नापाकअव्ययनालायकअनाचार
अधर्मअकालअज्ञाननापसंद
अनश्वरअसभ्यअगोचरअनबन

अलुक् तत्पुरुष समास | Aluk Tatpurush Samas

जिसमें प्रथम पद के साथ संयुक्त कारक चिन्ह किसी ना किसी रूप में विद्यमान रहता है उसे अलुक् तत्पुरुष समास कहते हैं।

अलुक् तत्पुरुष समास के उदाहरण | Aluk Tatpurush Samas Ke Udaharan

समास समास विग्रह
धनंजयधन को जय करने वाला
मानसिजमन से जमने वाला
थानेदारथाने का दार
प्रियवंदाप्रिय बोलने वाली
मृत्युंजयमृत्यु को जीतने वाला

लुप्त पद (मध्यम पद लोपी) तत्पुरुष समास

जिस समास में दोनों पदों का सम्बंध बताने वाले पद लुप्त हो उसे लुप्त पद तत्पुरुष समास कहते हैं।

लुप्त पद तत्पुरुष समास के उदाहरण

समास समास विग्रह
दही बड़ादही में डूबा हुआ बड़ा
बैलगाड़ीबैल से चलने वाली गाड़ी
रसगुल्लारस में डूबा हुआ गुल्ला
वनमानुषवन में रहने वाला मानुष
तिल पापड़ीतिल से बनी हुई पापड़ी
शिक्षकशिक्षा देने का कार्य करने वाला

उपपद तत्पुरुष समास

जिस समास का उत्तर पद ऐसा कृदंत होता है जो स्वतंत्र नहीं होता और प्रत्येक की तरह प्रयुक्त होकर समस्त पद के निर्माण में सहायक बनता है उसे उपपद तत्पुरुष समास कहते हैं।

उपपद तत्पुरुष समास के उदाहरण

समास समास विग्रह
चर्मकारचमड़े का काम करने वाला
स्वर्ग-गामीस्वर्ग गमन करने वाला
दही बड़ादही में डूबा हुआ बड़ा
तटस्थतट पर स्थित रहने वाला
स्वर्णकारसोने का काम करने वाला

FAQ

तत्पुरुष समास में कौन सा पद प्रधान होता है?
तत्पुरुष समास में उत्तर पद (दूसरा पद) प्रधान होता है।

छात्रों में उम्मीद करता हूं की आपको आज की यह पोस्ट तत्पुरुष समास आपको पसंद आई होगी मैं इस पोस्ट में तत्पुरुष समास के उदाहरण (Tatpurush Samas Ke Udaharan) के माध्यम से समझने की कोशिश की है जिससे आपको आसानी से समझ में आ जाए।

यदि आपको तत्पुरुष समास (Tatpurush Samas) कि इस पोस्ट में किसी प्रकार की कोई शिकायत है। या आपको समास से संबंधित कोई सुझाव देना है तो आप हमें कमेंट सेक्शन या फिर ईमेल के माध्यम से सूचित कर सकते हैं मैं इस त्रुटि को जल्द से जल्द सुधारने का प्रयास करूंगा। आपके बहुमूल्य विचारों का इंतजार रहेगा। 

आपको तत्पुरुष समास (Tatpurush Samas) कि यह पोस्ट अच्छी लगी है तो आप अपने मित्रों व परिवार के साथ इस व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर पर शेयर कर सकते हैं। धन्यवाद!

Leave a Comment