तलवार का पर्यायवाची शब्द | Talwar Ka Paryayvachi Shabd Kya Hota Hai

तलवार का पर्यायवाची शब्द | Talwar Ka Paryayvachi Shabd : कृपाण, चंद्रहास, असि, खड्ग, करवाल, शम्शीर, कटार, भुजाली, खंजर, दुधारा हथियार आदि, आज की नई पोस्ट तलवार का पर्यायवाची शब्द हिंदी में आज इस पोस्ट के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे की तलवार का पर्यायवाची शब्द तथा साथ ही त से पर्यायवाची शब्द हिंदी में |  ( Talwar Ka Paryayvachi Shabd in Hindi) के कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण के माध्यम से इस पोस्ट को पढ़ेंगे।

Talwar ka paryayvachi Shabd kya hota hai
Talwar ka paryayvachi Shabd kya hota hai

पर्यायवाची शब्द किसे कहते हैं?

पर्यायवाची शब्द की परिभाषा : वह शब्द जो एक समान अर्थ (एक दूसरे की तरह अर्थ) रखते हैं। वो शब्द पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं।

चुंकि इनके अर्थ में समानता अवश्य रहती है लेकिन इनका प्रयोग विभिन्न प्रकार से होता है पर्यायवाची शब्दों को उसके गुण व भाव के अनुसार प्रयोग किया जाता है क्योंकि एक ही शब्द या नाम हर स्थान पर उपयुक्त नहीं हो सकता है ‘इच्छा’ शब्द के स्थान पर ‘कामना’ शब्द प्रयोग करना कितना शर्मनाक होगा आपको ऐसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए जो छोटे व प्रचलित हो।

तलवार का पर्यायवाची शब्द क्या होता है?

तलवार का पर्यायवाची शब्दTalwar Ka Paryayvachi Shabd
कृपाण, चंद्रहास, असि, खड्ग, करवाल, शम्शीर, कटार, भुजाली, खंजर, दुधारा हथियारKrasad, chandrahas, aasi, khandag, karval, shamsheer, katar, bhujalee, khanjar, dudhara hathiyar

से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

  • तलवार- कृपाण, खड्ग, करवाल, असि, चन्द्रहास, खड्ग, शम्शीर 
  • तरुणी – सुन्दरी, युवती, मनोज्ञा, रमणी, यौवनवती, नवयुवती, प्रमदा
  • तालाब – ताल, सरोवर, जलाशय, तडाग, पोखर, सर, कासार, सरसी, पुष्कर, हृद, छद, दह
  • तरु –  पेड, वृक्ष, पादप, विटष, दुम
  • तोता – सुआ, सुग्गा, शुक, कौर, प्रिय, रक्ततुण्ड, दाडिम 
  • तेज – तीव्र, द्रुत, क्षिर्प
  • तारा – नखत, नक्षत्र, उङ्कगण, तारक
  • तन्मयता – लगन, एकाग्रता, ध्यानमग्नता, तल्लीन, लवलीनता, तल्लीनता 
  • तीखा- तीक्ष्ण, तेज, प्रखर, पैना
  • तत्पर – तैयार, मुस्तैद, उद्यत, कटिबद्ध, संनद्ध 
  • तरुण – जवान, युवा, युवक, नवयुवक, नवजवान
  • तादात्म्य – एकात्मक, एकरूपता, अभिन्नता, सारूप्य, तद्रूपता, अनन्यता, एकान्चिता
  • तुरन्त – तुरत, झटपट, फटाफट, त्वरित, क्षिप्र, सत्वर, त्वरा
  • तैयार – मुस्तैद, तत्पर, उद्यत, सन्नद्ध, कटिबद्ध 
  • तूफान- आँधी, प्रभंजन,अधड़, झंझा, झंझावात, 
  • तेजस्वी – प्रतापी, तेजोमय, तेजवान् वर्चस्वी, कांतिमय 
  • त्रास – डर, भय, आशंका, आतंक, भीति
  • त्रुटि – भूल, चूक, गलती
  • तम – अँधेरा, अन्धकार, तिमिर, ध्वान्त, तमिस्रा 
  • तटस्थ – निरपेक्ष, उदासीन, निष्पक्ष, निर्लिप्त, बेलाग 
  • तनिक – थोड़ा, जरा, रंचमात्र, लेशमात्र, किंचित 
  • तथापि – तो भी, फिर भी, इसके बावजूद, तदपि, तिसपर भी, 
  • तरंग – लहर, उर्मि, हिलोर, उल्लोल, वीचि
  • तामरस – कमल, नीरज, पंकज, सरसिज, पुण्डरीक, इन्दीवर
  • तन्मय – लीन, मग्न, ध्यानमग्न, तल्लीन, लवलीन
  • तानाशाह – डिक्टेटर, निरकुश शासक, अधिनायक
  • तारतम्य – सिलसिला, परम्परा, क्रम
  • तालिका – सारणी, सूची, फेहरिस्त
  • तालमेल – संगति, सामंजस्य, सामरस्य, संहति, सुस्वरता, समन्वय
  • तिरस्कार – बेइज्जती, अपमान, अवहेलना, उपेक्षा, निरादर, अवमानना,

तलवार से जुडे कुछ रोचक तथ्य

Talwar Ka Paryayvachi Shabd

तलवार- तलवार एक शास्त्र होता है। जिससे हम किसी को मार सकते हैं या किसी के घोप सकते हैं। तलवार का प्रयोग खून खराबे और  लड़ाई झगड़े में किया जाता है। प्राचीन समय में युद्ध करने के लिए तलवारों का प्रयोग करते थे। क्योंकि हम सब जानते हैं कि तलवार में बहुत ताकत होती है। और वीरता के साथ युद्ध जीतने के शब्द भी होती है। तलवार की धार तेज और युद्ध जीतने की क्षमता रखती है।

राजा महाराजाओं के पास सदैव तलवार हुआ करती थी। प्राचीन समय में राजाओं द्वारा हुए युद्ध में तलवार से ना जाने कितनों की हत्या हुई है। तलवार से शारीरिक बल जुड़ी होता है। तलवार लोगों का खून भारती है खून खराबा करती है।

तलवार मां भवानी का रूप होती है। तलवार को म्यान से निकालने से पहले नमन करना चाहिए। जब कभी भी तलवार को चलाओ तो सबसे पहले उसे खून या फिर उसे लोहे किसी चीज से या लोहे से टकराने के बाद चलाना चाहिए। 

हमें तलवार की पूजा दशहरे के दिन करनी चाहिए क्योंकि तलवार मां भवानी पर होती है।

Leave a Comment