फूल का पर्यायवाची शब्द | Phool Ka Paryayvachi Shabd

फूल का पर्यायवाची शब्द | Phool Ka Paryayvachi Shabd : सुमन, लतांत, प्रसून, पुहुप, कुसुम, मंजरी, पुष्प, गुल, डैफोडिल, बाग, उद्यान, गुलशन आदि, आज की नई पोस्ट फूल का पर्यायवाची शब्द हिंदी में आज इस पोस्ट के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे की फूल का पर्यायवाची शब्द तथा साथ ही फ से पर्यायवाची शब्द हिंदी में | (Phool Ka Paryayvachi Shabd in Hindi) के कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण के माध्यम से इस पोस्ट को पढ़ेंगे।

Phool ka paryayvachi Shabd kya hota hai.png
Phool ka paryayvachi Shabd kya hota hai.png

पर्यायवाची शब्द किसे कहते हैं?

पर्यायवाची शब्द की परिभाषा : वह शब्द जो एक समान अर्थ (एक दूसरे की तरह अर्थ) रखते हैं। वो शब्द पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं।

चुंकि इनके अर्थ में समानता अवश्य रहती है लेकिन इनका प्रयोग विभिन्न प्रकार से होता है पर्यायवाची शब्दों को उसके गुण व भाव के अनुसार प्रयोग किया जाता है क्योंकि एक ही शब्द या नाम हर स्थान पर उपयुक्त नहीं हो सकता है ‘इच्छा’ शब्द के स्थान पर ‘कामना’ शब्द प्रयोग करना कितना शर्मनाक होगा आपको ऐसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए जो छोटे व प्रचलित हो।

फूल का पर्यायवाची शब्द क्या होता है?

फूल का पर्यायवाची शब्दPhool Ka Paryayvachi Shabd
सुमन, लतांत, प्रसून, पुहुप, कुसुम, मंजरी, पुष्प, गुल, डैफोडिल, बाग, उद्यान, गुलशनSuman, Latent, Prasoon, Puhup, Kusum, Manjari, Pushp, Gul, Dafodeala, Bagh, Udyan, Gulshan

से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

  • फूल – पुष्प, प्रसून, कुसुम, सुमन, लतान्त, मजरी, पुहुप, गुल
  • फणीन्द्र – शेषनाग, नागराज, सर्पराज, वासुकि, उरगाधिपति
  • फणी – सर्प, सॉप, नाग, फणधर, उरग 
  • फरेब – छल,धोखा, कपट,  प्रताड़ना, प्रवचना
  • फायदा – लाभ, नफा, मुनाफा, उपलब्धि, प्राप्ति
  • फिर – दोबारा, पुन:, बहुरि
  • फुनगी – कली, अंकुर, मजरी, किसलय, कॉपल 
  • फौरन – तुरन्त, शीघ्र, तत्काल, जल्दी, तत्क्षण, त्वरित

फूल से जुडे कुछ रोचक तथ्य

फूल – फुल सबसे नाजुक माना जाता है।

पुष्पा – पुष्पों का राजा कमल है।

बाग – बगीचे से कई व्यक्ति फूल तोड़ रहे थे बगीचे के माली ने उन्हें डांट दिया।

सुमन – सुमन किसी महिला का नाम हो सकता है परंतु इसी स्थान पर इस को पुष्प की संज्ञा दी गई है।

फूल – कमल का ‘फूल’ कीचड़ में खिलता है।

फूल का मुख्य कार्य होता है कि प्रजनन करके फल का निर्माण करना।

फूल के चार भाग होते हैं-

1.बाह्य दलपुंज  2.दलपुंज  3.पुमंग 4.जयांग

जो फूल रात में खिलते हैं। वह अपने सुगंध के द्वारा किटो को आकर्षित करते हैं। रात्रि में खिलने वाले फूल दिन में खिलने वाले के मुकाबले अधिक सुगंधित होते हैं।

जो फूल दिन के समय खिलते हैं वह रंग-बिरंगे होते हैं वह अपने रंगों के द्वारा कीड़े मकोड़ों को आकर्षित करते हैं। 

  • फूल के नर भाग को पुमंग कहते हैं।
  • फुल के मादा भाग को जयांग कहते हैं।

Leave a Comment