पेड़ का पर्यायवाची शब्द | Ped Ka Paryayvachi Shabd Kya Hota Hain

पेड़ का पर्यायवाची शब्द | Ped Ka Paryayvachi Shabd : वृक्ष, पुष्पद, पादप, तरु, गाछ, रुख, वनस्पति, अगम, बूटा, विटप, साखी, द्रम, पर्णी, रूक्ष आदि, आज की नई पोस्ट पेड़ का पर्यायवाची शब्द हिंदी में आज इस पोस्ट के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे की पेड़ का पर्यायवाची शब्द तथा साथ ही प से पर्यायवाची शब्द हिंदी में | (Ped Ka Paryayvachi Shabd in Hindi) के कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण के माध्यम से इस पोस्ट को पढ़ेंगे।

ped ka paryayvachi Shabd kya hota hai.png
ped ka paryayvachi Shabd kya hota hai.png

पर्यायवाची शब्द किसे कहते हैं?

पर्यायवाची शब्द की परिभाषा : वह शब्द जो एक समान अर्थ (एक दूसरे की तरह अर्थ) रखते हैं। वो शब्द पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं।

चुंकि इनके अर्थ में समानता अवश्य रहती है लेकिन इनका प्रयोग विभिन्न प्रकार से होता है पर्यायवाची शब्दों को उसके गुण व भाव के अनुसार प्रयोग किया जाता है क्योंकि एक ही शब्द या नाम हर स्थान पर उपयुक्त नहीं हो सकता है ‘इच्छा’ शब्द के स्थान पर ‘कामना’ शब्द प्रयोग करना कितना शर्मनाक होगा आपको ऐसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए जो छोटे व प्रचलित हो।

पेड़ का पर्यायवाची शब्द क्या होता है?

पेड़ का पर्यायवाची शब्दPed Ka Paryayvachi Shabd
वृक्ष, पुष्पद, पादप, तरु, गाछ, रुख, वनस्पति, अगम, बूटा, विटप, साखी, द्रम, पर्णी, रूक्षVrksh, Pushpa, Padap, Taru, Gaachh, Rukh, Vanaspati, Agam, Bhuta, Vitap, Saakhi, Drum, Parnee, Ruksh

प से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

  • पर्वत – पहाड, मेरू, गिरि, अचल, भूधर, शैल, नग, भूमिधर, महीधर, तुग, घराघर
  • पवन – हवा, बयार, वायु, समीर, अनिल, वात, मारुत, प्रकम्पन, समीरण, प्रभजन, प्राण, पवमान नभप्राण, मृगवाहन 
  • पक्षी – चिडिया, परिन्दा, पछी, खग, द्विज, पखेरू, अंडज, विहग, विहंग, शकुन्त, शकुनि, पतग, 
  • पराग – पुष्पधूलि, रंज, पुष्परज, कुसुमरज
  • पुत्र – बेटा, लडका, पूत, सुत, तनया, आत्मज, औरस, 
  • परिर्वतन – बदलाव, हेर-फेर, अदल-बदल, फेर-बदल, तबदीली
  • पंक – कीचड़, कीच, कर्दम
  • पंकिल – गन्दा, मैला, मलिन, गन्दला, मलीन
  • पंथ – रास्ता, मार्ग, राह, डगर, पथ, 
  • पंथ – सम्प्रदाय, धर्म, मत
  • पकड़ना – गिरफ्तार करना, कैद करना, बंदी बनाना
  • पछतावा – पश्चाताप, प्रायश्चित, अनुताप, ग्लानि, संताप 
  • पटरानी – महारानी, बडी रानी, प्रमुख रानी, राजमहिषी, 
  • पटु – होशियार, निपुण, कुशल, प्रवीण, पारंगत, निष्णात, दक्ष
  • प्रणय – प्रेम, प्रीति, अनुराग, अनुरक्ति, स्नेह, 
  • प्रसन्नता – खुशी, आनन्द, प्रफुल्लता, हर्ष, आह्मद, 
  • प्रभात – सुबह, सवेरा, प्रातः, ऊषा, अरुणोदय
  • पृथ्वी – धरती, भू, भूमि, धरित्री, वसुन्धरा, अचला, जगती, धरा, धरणी, वसुधा, क्षिति, उर्वी, मेदिनी, मही, प्रहुभि, धाप्ती, क्षोणी, वसुमूति, बीजप्रसु, अवनि, ईला 
  • प्रकाश – रोशनी, उजाला, चमक, ज्योति, प्रभा, छवी, धुति, आलोक, दीप्ति, 
  • प्रेमी – आशिक, प्यारा, प्रियतम, स्नेही, अनुरागी
  • पत्थर – पाषाण, प्रस्तर, शिला, उत्पल, अश्म, संग, पाहन, उपल
  • पत्र – चिट्ठी, खत, पाती
  • पति – स्वामी, नाथ, प्राणप्रिय, बालम, भर्ता, वल्लभ, भतरि, आर्यपुत्र, ईश, जीवनधारा
  • पत्नी – औरत, घरवाली, बहू, जोरू, प्रिया, प्राणप्रिय, भार्या, दारा, सहगामिनी, गृहिणी, यधू, वल्लभा, वामा, घरनी, लिय, कान्ता, कलत्र, अर्द्धाङ्गिनी, बामाङ्गी, 
  • पण्डित – विद्वान, कोविद, बुध, धीर, मनीषी, सुधी, प्राज्ञ, विलक्षण, विज्ञ, सुविज्ञ 
  • पथ्य – भोजन, आहार, भोज्य पदार्थ
  • पथिक – राही, यात्री, मुसाफिर, पथी, बटोही 
  • पद – पैर, पाँव, चरण, कदम, पाद, पग, पगु
  • परशुराम – परशुधर, भार्गव, भृगुसुत, जामदग्न्य, रेणुकातनय, भृगुनन्दन
  • परन्तु – किन्तु, लेकिन, पर, मगर
  • परिमण्डल – घेरा, चक्कर, वृत्त, परिधि
  • परिवाद – बुराई, बदनामी, निन्दा, अपयश, अपवाद, अपकीर्सि 
  • परिवार – खानदान, घराना, कुल, कुटुम्ब, कुनबा 
  • परिष्कार – संस्कार, शुद्धि, सफाई, संशोधन, परिमार्जन 
  • परिष्कृत – साफ, शुद्ध, स्वच्छ, प्राजल, परिमार्जित
  • परुष – कठोर, निर्दय, कड़ा, निष्ठुर, कर्कश 
  • परेशान – आकुल, उद्विग्न, झुब्ध, बेजार
  • परोक्ष – ओझल, अगोचर, अप्रत्यक्ष, गुप्त, तिरोहित 
  • पल – लमहा, क्षण, सेकण्ड, अंश, दम, निमेष, 
  • पर्याप्त – काफी, बहुत, प्रचुर, यथेष्ट 
  • पल्लव – पत्ती, पर्ण, किसलय, पात, कॉपल
  • पल्ला – दामन, आँचल, छोर
  • पिता – जनक, दाप, तात, वालिद 
  • पुत्री – बेटी, लड़की, सुता, तनय, आत्मजा, दुहिता 
  • पिक – कलकण्ठ, कोयल, कोकिला, वसन्तदूती, श्यामा

पीछे – बाद में, पश्चात्, उपरान्त, अनन्तर, फिर, 

  • पीड़ा – दर्द, तकलीफ, वेदना, यातना, व्यथा, यंत्रणा, 
  • पुंज – समूह, अम्बार, ढेर, जमाव, राशि
  • पुरातन – पुराना, प्राचीन, भूतकालीन, पूर्वकालीन, प्राक्कालीन, प्राक्त
  • पुश्कल – बहुत, अधिक, इफरात, ढेर-सा, प्रचुर, विपुल, अतिशय, अत्यन्त 
  • पुष्टि – समर्थन, हिमायत, अनुमोदन
  • पूजा – अर्चना, वन्दना, इबादत, आराधना, उपासना, पूज्य- पूजनीय, अर्चनीय, वंदनीय, आराध्य, उपास्य, वंद्य 
  • पूर्ण – पूरा, सारा, कुल, सम्पूर्ण, सकल, समूचा, समग्र
  • प्रख्यात – नामी, प्रसिद्ध, मशहूर, विख्यात, प्रतिष्ठित, यशस्वी, विश्रुत, नामवर, लब्ध-प्रतिष्ठ, 
  • प्रगति – तरक्की,उन्नति, विकास, बढ़ती, श्रीवृद्धि

पेड़ से जुडे कुछ रोचक तथ्य

पेड़ – यह आम का पेड़ है।

वृक्ष – इस वृक्ष में बहुत सारे फल लगे हैं।

पेड़ से हमें बहुत ही महत्वपूर्ण चीजें मिलती हैं।

लकड़ी, फर्नीचर, माचिस आदि।

ऑक्सीजन हमें पेड़ से मिलती है। जो हमें सांस लेने में काम आती है। पेड़ों से हमें पौष्टिक व स्वादिष्ट फल प्राप्त होते हैं।

पेड़ों की पत्तियों से वाष्पीकरण द्वारा वर्षा कराने में उपयोगी होते हैं।

पेड़ों से अनके प्रकार की औषधि प्राप्त होती है। जो हमें कई रोगों से बचाने में सहायता करते है। 

पेड़ हमें विभिन्न प्रकार की सब्जियां देते हैं।

पेड़ हमें फल, फूल, लकड़ी, पेपर ऑक्सीजन देते हैं। इसलिए हमको कम से कम साल में दो-चार पेड़ लगाने ही चाहिए।

बरगद को हम पेड़ों का राजा कहते हैं। बरगद एक ऐसा पेड़ है जिसकी औसतन आयु 350 वर्ष मानी जाती है।

इन पेड़ों ने हमारी पीड़ियों का विनाश देखा है। पेड़ों के बिना मानव के सभ्यता के अस्तित्व की कल्पना भी नहीं की जा सकती है।

Leave a Comment