STUDYROOT

क्रिया किसे कहते हैं क्रिया की परिभाषा, भेद व उदाहरण | Kriya Kise Kahate Hain

स्वागत है दोस्तों आज की शानदार पोस्ट में आज हम जानने वाले हैं की क्रिया किसे कहते हैं? (Kriya Kise Kahate Hain) परीक्षा में क्रिया से संबंधित कई प्रकार के सीधे के सीधे प्रश्न पूछ लिए जाते हैं। यदि आप हिंदी व्याकरण का अध्ययन कर रहे हैं तो आपको पता ही होगा कि क्रिया किसे कहते हैं?(Kriya Kise Kahate Hain) क्रिया की परिभाषा (kriya ki paribhasha), भेद व उदाहरण यदि आप नहीं जानते हैं तो कोई भी दिक्कत की बात नहीं है मैंने इस टॉपिक में क्रिया को बहुत ही आसानी के साथ समझाने की कोशिश की है तो चलो जानते हैं की क्रिया किसे कहते हैं?

Kriya Kise Kahate Hain
Kriya Kise Kahate Hain

क्रिया की परिभाषा | Kriya Ki Paribhasha

जिन शब्दों से किसी कार्य का होना या करना समझा जाए उन्हें क्रिया कहते हैं।

उदाहरण – खाना, पीना, पढ़ना, लिखना, चलना, दौड़ना आदि।
हिंदी में क्रिया के रूप लिंग, वचन और पुरुष के अनुसार बदलते हैं।

धातु किसे कहते हैं?

क्रिया के मूल रूप को "धातु" कहते हैं। 
धातु के आगे "ना" जोड़ने से क्रिया का सामान्य रूप बन जाता है।

जैसे - 'पढ़' धातु में 'ना' जोड़ने से "पढ़ना" बन जाता है।
इसी प्रकार "लिख" धातु में "ना" जोड़ने से "लिखना" बन जाता है।
खा + ना = खाना पी + ना = पीना
चल + ना = चलनापढ़ + ना = पढ़ना
दौड़+ ना = दौड़नालिख + ना = लिखना

क्रिया के कितने भेद होते हैं। Kriya ke Kitne Bhed Hote Hain

हिंदी में कर्म के अनुसार क्रिया के मुख्य रूप से दो भेद होते हैं।
1. सकर्मक क्रिया (Sakarmak Kriya)
2. अकर्मक क्रिया (Akarmak Kriya)

सकर्मक क्रिया किसे कहते हैं। Sakarmak Kriya Kise Kahate Hain

जिन क्रियाओं के कार्य का फल कर्ता को छोड़कर कर्म पर पड़ता है। उन्हें सकर्मक क्रिया कहते हैं।

सकर्मक क्रिया के उदाहरण । Sakarmak Kriya Ke Udaharan

1. अध्यापक ने लड़के को पीटा।
इस वाक्य में अध्यापक (कर्ता) द्वारा पिटने के कार्य का फल लड़के (कर्म) पर पड़ा। 
अतः इस वाक्य में सकर्मक क्रिया है।

2. मंगलेश्वर आम खा रहा है।
यहां खा रहा है क्रिया के व्यापार का फल आम पर पड़ रहा है। अतः "खा" रहा है क्रिया सकर्मक है।

सकर्मक क्रिया को पहचानने का तरीका यह है कि क्रिया से क्या अथवा कौन के प्रश्न करने पर यदि उत्तर मिल जाए तो वह सकर्मक क्रिया हो जाएगी।

जैसे - 
बालिका निबंध लिख रही है।
ऊपर दिए गए उदाहरण से क्या का प्रश्न करें। 
बालिका क्या लिख रही हैं?
उत्तर मिल रहा है निबंध लिख रही है।

सकर्मक क्रिया के भेद | Sakarmak Kriya Ke Bhed

सकर्मक क्रिया के दो भेद होते हैं।
1.  एकर्मक क्रिया  
2.  द्विकर्म क्रिया
 एकर्मक क्रिया
वह क्रिया जिसमें एक कर्म होता है उसे एकर्मक क्रिया कहते हैं।

उदाहरण - 
     अध्यापक ने छात्रों को पढ़ाया।
     अध्यापक ने हिंदी पढ़ाई।
द्विकर्म क्रिया
कुछ सकर्मक क्रियाएं एक कर्म वाली और कुछ दो कर्म वाली होती हैं जो दो कर्म वाले होते हैं उन्हें द्विकर्म क्रिया कहते हैं।

उदाहरण - 
श्वेता ने रीना को बांसुरी दी।
यहां पर दी सकर्मक क्रिया के दो कर्म श्वेता और बांसुरी हैं। इस प्रकार 'दी' सकर्मक क्रिया है यहां बांसुरी मुख्य कर्म और रीना गौण कर्म है।

उदाहरण 

अध्यापक ने छात्रों को हिंदी पढ़ाई।
राधा गाय को चारा खिलाती है।

द्विकर्म क्रिया
द्विकर्मक क्रिया में दो कर्म होते हैं।

1. मुख्य कर्म - क्रिया से ठीक पहले मुख्य कर्म निर्जीव होगा 'को' विभक्त नहीं होगी।
2. गौण कर्म - मुख्य कर्म से पहले होगा। सजीव होगा 'को' विभक्ति होगी।

नोट- • द्विकर्म क्रिया वाले वाक्यों में गौण कर्म पहले व मुख्य कर्म बाद में होगा।

• कोई चीज देकर वापस नहीं लेना दान, पुरस्कार, उपहार, इनाम इत्यादि एकर्मक क्रिया होगा।
उदाहरण - राजा ने गरीबों को कंबल दान किए।

अकर्मक क्रिया किसे कहते हैं | Akarmak Kriya Kise Kahate Hain

जिनके क्रियाओं के कार्य का फल कर्ता में ही रहता है उन्हें अकर्मक क्रिया कहते हैं।

अकर्मक क्रिया के उदाहरण

विद्यार्थी पढ़ता है।
इस वाक्य में पढ़ना क्रिया का फल विद्यार्थी (कर्ता) पर पड़ता है अतः इस वाक्य में अकर्मक क्रिया है।

• रति गयी।
यहां गई क्रिया के व्यापार का फल रति (कर्ता) पर पड़ता है अतः गयी क्रिया अकर्मक है।

क्रियाओं के अन्य भेद

क्रियाओं के छः अन्य भेद है जो निम्नलिखित हैं।
1.सामान्य क्रिया  
2.संयुक्त क्रिया  
3.पूर्वकालिक क्रिया
4.प्रेरणार्थक क्रिया  
5.कृदंत क्रिया  
6.नामधातु क्रिया
7.सहायक क्रिया  
8.सजातीय क्रिया

सामान्य क्रिया किसे कहते हैं | Samanya Kriya Kise Kahate Hain

जिस वाक्य में एक कार्य और एक क्रियापद हो, तो उसे सामान्य क्रिया कहते हैं।

सामान क्रिया के उदाहरण

• मोहन पुस्तक पढ़ता है।
• गणेश आम खाता है।
• हमने सेब आया।
• रूद्र बाइक चलाएगा।
• कमलेश नहा रहा है।
• श्यामसुंदर जाता है।
• वह सब खेलते हैं।
• विशाल स्कूल गया।
• कमला देवी आई।
• राहुल गया।

संयुक्त क्रिया किसे कहते हैं | Sanyukt Kriya Kise Kahate Hain

संयुक्त क्रिया - एक वाक्य में एक कार्य बताने हेतु  एक से अधिक क्रिया पद संयुक्त रुप से प्रयुक्त होते हैं।
'या' दो या दो से अधिक क्रियाओं के योग से जो पूर्ण क्रिया बनती है उसे संयुक्त क्रिया कहते हैं।
इसमें (एक क्रिया दो क्रियापद)

संयुक्त क्रिया के उदाहरण | Sanyukt Kriya Ke Udaharan

• आपने पाठ पढ़ लिया।
• सभी लोग स्नान कर चुके हैं।
• सीता गाना गा चुकी है।
• उर्मिला घर चली गयी।
• सुंदरी स्कूल पहुंच गई।
• जगन्नाथ ने दूध पी लिया।
• राम खाना खा चुका है।

इस वाक्य में 'खाना' और 'चुका' दो क्रियाओं के योग से पूर्ण क्रिया बनी है अतः संयुक्त क्रिया है संयुक्त क्रियाएं अभ्यास, अनिष्टता, अनुमति, अवकाश, आरंभ आवश्यकता, इच्छा, निरंतर, पूर्णता, समाप्ति इत्यादि अर्थों में प्रयुक्त होती है।

पूर्वकालिक क्रिया किसे कहते हैं | PurvKalik Kriya Kise Kahate Hain

पूर्वकालिक क्रिया - जिन क्रियाओं के पहले कोई अन्य क्रिया आए उन्हें पूर्वकालिक क्रिया कहते हैं।

पूर्वकालिक क्रिया, 'क्रिया' का मूल रूप होती है। अथवा उसके साथ 'कर' या 'करके' का प्रयोग होता है।
(दो क्रियापद, दो कार्य लेकिन, एक क्रिया पहले पूर्ण हो जाएगी।)

पूर्वकालिक क्रिया के उदाहरण

• मोहन पढ़ कर सो गया।
• हम सब नहा कर मंदिर में पूजा करने जाएंगे।
• अमित स्नान करके शादी में चला गया।
• विशाल खाना खाकर अपने घर पहुंच गया।
• अपना पाठ पढ़कर खेलो।
• राहुल मैच खेल कर सो गया।
• वाह खाना खा कर सो गया।
• चूहा शेर के शरीर पर चढ़कर फुदकने लगा।

प्रेरणार्थक क्रिया किसे कहते हैं | Pranatha Kriya Kise Kahate Hain

प्रेरणार्थक क्रिया – जिन क्रियाओं से यह बोध होता है कि कर्ता स्वयं कार्य न करके किसी दूसरे को कार्य करने के लिए प्रेरित करता है उन्हें प्रेरणार्थक क्रिया कहते हैं।

प्रेरणार्थक क्रिया के उदाहरण

• सीता को बच्चे सुलवाना है।
• शंकर को गाड़ी धुलवाना है
• मां बेटी से भोजन बनवाती हैं।
• श्याम उद्धव से पत्र लिखवाता है
• सीता को अभी किताब दिलवाना है।
• यह मैच अपने दम पर जीतवाना है
• मोहित को बैठें लोगों को हंसाना है।
• आज घर की पेंटिंग करवाना है।

साधारण क्रिया से प्रेरणार्थक क्रिया बनाना

करना – कराना, करवाना
काटना – कटवाना
लिखना – लिखवाना
खाना – खिलवाना
चलना – चलवाना
देना – दिलवाना
पढ़ना – परवाना
सोना – सिलवाना
हंसना – हंसाना
सुनना – सुनवाना
जीतना – जिदवाना
कटाना – कटवाना

कृदंत क्रिया किसे कहते हैं।

कृदंत क्रिया – धातुओं में ‘ना’ के अलावा कोई प्रत्यय जोड़े तो कृदंत क्रिया होगी।

कृदंत क्रिया के उदाहरण

हंसता, खेलता, जीतता, नहाता, गिरता, काटता, सुनता, पढ़ता इत्यादि।
चल + ता = चलता
चल + कर = चलकर
चल + आ = चला

नामधातु क्रिया किसे कहते हैं

नामधातु क्रिया – संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण में प्रत्यय लगाने से जो क्रिया बनती है वह क्रिया नामधातु क्रिया कहलायेगी।

नामधातु क्रिया के उदाहरण

चमक – चमकना, चमकाना
लात –    लतियाना
लज्जा –  लजाना, लजियाना
रंग –      रंगना, रंगाना
अपना –   अपनाना
बात –     बतियाना

सहायक क्रिया किसे कहते हैं | Sahayak Kriya Kise Kahate Hain

सहायक क्रिया – सहायक क्रिया मुख्य क्रिया के साथ प्रयुक्त होकर अर्थ को स्पष्ट एवं पूर्ण करने में सहायक होती है। (वाक्य में काल का परिचय कराती है)

सहायक क्रिया के उदाहरण

• हम पढ़ रहे हैं।
• राहुल पड़ता है।
• तुम नहा रहे थे।
• अमित गा रहा था।
• बच्चे शोर मचा रहे हैं।
• तुम क्या पढ़ रहे हो।
• मैं घर जाता हूं।
इस बात में 'जाता' मुख्य क्रिया है 'हूं' सहायक क्रिया है।

सजातीय क्रिया किसे कहते हैं | Sajati Kriya Kise Kahate Hain

सजातीय क्रिया - जिन वाक्य में समान जाति की क्रिया होगी वह सजातीय क्रिया होती है। 
(क्रिया, कर्म समान धातु से बने होंगे)

सजातीय क्रिया के उदाहरण

• भारत ने लड़ाई लड़ी।
• हमने चढ़ाई चढ़ाई।
• बच्चे ने क्या बोली बोली।
• मोहन ने गीत गाया।
• हमने पढ़ाई पढ़ाई।
• मैंने चाल चली।
• हमने क्या बात बताई।
• अध्यापक छात्र मार मारी।

क्रिया के उदाहरण | Kriya ke Udaharan

• अध्यापक ने लड़के को पीटा।
• राजा ने गरीबों को कंबल दान किए।
• अध्यापक ने छात्रों को हिंदी पढ़ाई।
• मोहन ने गीत गाया।
• हमने पढ़ाई पढ़ाई।
• मैंने चाल चली।
• राधा गाय को चारा खिलाती है।
• अध्यापक ने छात्रों को पढ़ाया।
• मोहन पुस्तक पढ़ता है।
• गणेश आम खाता है।
• हमने सेब आया।
• विद्यार्थी पढ़ता है।
• रति गयी।
• रूद्र बाइक चलाएगा।
• कमलेश नहा रहा है।
• आपने पाठ पढ़ लिया।
• भारत ने लड़ाई लड़ी।
• हमने चढ़ाई चढ़ाई।
• अध्यापक ने हिंदी पढ़ाई।
• बालिका निबंध लिख रही है।
• मंगलेश्वर आम खा रहा है।
• बच्चे ने क्या बोली बोली।
• राहुल गया।
• हमने क्या बात बताई।
• अध्यापक छात्र मार मारी।
• सभी लोग स्नान कर चुके हैं।
• मोहन पढ़ कर सो गया।
• हम सब नहा कर मंदिर में पूजा करने जाएंगे।
• अमित स्नान करके शादी में चला गया।
• सीता को बच्चे सुलवाना है।
• राहुल पड़ता है।
• तुम नहा रहे थे।
• तुम क्या पढ़ रहे हो।
• मैं घर जाता हूं।
• कमला देवी आई।
• सीता को अभी किताब दिलवाना है।
• यह मैच अपने दम पर जीतवाना है
• राहुल मैच खेल कर सो गया।
• वाह खाना खा कर सो गया।
• चूहा शेर के शरीर पर चढ़कर फुदकने लगा।
• मोहित को बैठें लोगों को हंसाना है।
• आज घर की पेंटिंग करवाना है।
• विशाल खाना खाकर अपने घर पहुंच गया।
• अपना पाठ पढ़कर खेलो।
• सीता गाना गा चुकी है।
• उर्मिला घर चली गयी।
• विशाल स्कूल गया।
• अमित गा रहा था।
• बच्चे शोर मचा रहे हैं।
• श्यामसुंदर जाता है।
• वह सब खेलते हैं।
• शंकर को गाड़ी धुलवाना है
• मां बेटी से भोजन बनवाती हैं।
• श्याम उद्धव से पत्र लिखवाता है
• हम पढ़ रहे हैं।
• सुंदरी स्कूल पहुंच गई।
• जगन्नाथ ने दूध पी लिया।
• राम खाना खा चुका है।

निष्कर्ष

दोस्तों में उम्मीद करता हूं कि आपको यह पोस्ट क्रिया किसे कहते हैं। (Kriya kise kahate hain) या क्रिया की परिभाषा भेद व उदाहरण बिल्कुल ही क्लियर हो गए होंगे मैंने एक पोस्ट को समझाने के लिए क्रिया के उदाहरण का प्रयोग किया है। जिससे आप सभी को क्रिया से संबंधित किसी प्रकार की परेशानी न हो क्योंकि क्रिया ही नहीं हर चीज को उदाहरण के माध्यम से यदि सीखते हैं तो वह ज्यादा स्पष्ट हो जाता है।

क्रिया के चैप्टर से सीधे प्रश्न पूछे जाते हैं यह टापिक कितना आसान है कि यदि आप एक बार क्रिया किसे कहते हैं? पढ़ लेते हैं तो आपको शायद दोबारा क्रिया को पढ़ने की जरूरत पड़े यदि आप एक बार आज पढ़कर यह टॉपिक पूर्ण करते हैं। तो आपको सिर्फ बीच-बीच में या कहें महीने 2 महीने में एक बार रिवीजन करने की आवश्यकता होगी। और आपको क्रिया से संबंधित किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होगी।

दोस्तों मैं उम्मीद करता हूं कि आपको क्रिया किसे कहते हैं या क्रिया की परिभाषा व उदाहरण बिल्कुल स्पष्ट हो गया होगा यदि अब भी कोई प्रश्न है या किसी प्रकार की कोई त्रुटि मिलती हैं तो आप मुझे कमेंट के माध्यम से सूचित करें मैं इसे जल्द से जल्द सुधारने का प्रयास करूंगा तब तक के लिए धन्यवाद।

Exit mobile version