STUDYROOT

कण का पर्यायवाची शब्द | Kad Ka Paryayvachi Shabd Kya Hota Hai

कण का पर्यायवाची शब्द | Kad Ka Paryayvachi Shabd : बराव, बिंदु, अनु, कतरा, जर्रा, छोटा टुकड़ा, अत्यंत छोटा टुकड़ा, छोटा या महीन अंश, अंश या दाना, कणिका, आणु, किनका, परमाणु, कनी, दाना आदि, आज की नई पोस्ट कण का पर्यायवाची शब्द हिंदी में आज इस पोस्ट के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे की कण का पर्यायवाची शब्द तथा साथ ही क से पर्यायवाची शब्द हिंदी में | (Kad Ka Paryayvachi Shabd in Hindi) के कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण के माध्यम से इस पोस्ट को पढ़ेंगे।

kad ka paryayvachi Shabd kya hota hai
kad ka paryayvachi Shabd kya hota hai

पर्यायवाची शब्द किसे कहते हैं?

पर्यायवाची शब्द की परिभाषा : वह शब्द जो एक समान अर्थ (एक दूसरे की तरह अर्थ) रखते हैं। वो शब्द पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं।

चुंकि इनके अर्थ में समानता अवश्य रहती है लेकिन इनका प्रयोग विभिन्न प्रकार से होता है पर्यायवाची शब्दों को उसके गुण व भाव के अनुसार प्रयोग किया जाता है क्योंकि एक ही शब्द या नाम हर स्थान पर उपयुक्त नहीं हो सकता है ‘इच्छा’ शब्द के स्थान पर ‘कामना’ शब्द प्रयोग करना कितना शर्मनाक होगा आपको ऐसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए जो छोटे व प्रचलित हो।

कण का पर्यायवाची शब्द क्या होता है?

कण का पर्यायवाची शब्दKad Ka Paryayvachi Shabd
राव, बिंदु, अनु, कतरा, जर्रा, छोटा टुकड़ा, अत्यंत छोटा टुकड़ा, छोटा या महीन अंश, अंश या दाना, कणिका, आणु, किनका, परमाणु, कनी, दानाRav, Bindu, Anu, Katra, Jarra, Chhota tukra, atyant Chhota tukra, Chhota yah Mahina ans, ans ya daana, kadika, ado, kinka, premanu, kani, Dana

क से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

कण से जुडे कुछ रोचक तथ्य

Kad Ka Paryayvachi Shabd

कण – कान को श्रवणो संतुलन अंग भी कहते हैं। हमारे सिर के नेत्रों के पीछे दो कान होते हैं। कान के दो कार्य होते हैं। एक तो सुनना और दूसरा शरीर का संतुलन मतलब की ये सुनने के साथ-साथ शरीर का संतुलन भी बनाए रखते हैं। इसलिए इन्हें श्रवणो संतुलन इंद्रियां भी कहते हैं।

मनुष्य के कान के प्रमुख तीन भाग होते हैं- 

1.बाह्य कर्ण  2.मध्य कर्ण  3.अन्तः कर्ण

कर्ण मानव जीवन में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हमारे कर्ण संवेदनशील अंग होते हैं। कान हमें हर तरह की ध्वनि को पहचानने में मदद करते हैं। हमारे भीतर कान की संरचना गुफानुमा होती है। हमारे कान में एक चिकना पदार्थ स्रावित होता है। वह इकट्ठा होकर कान में मोम बनाता है। मोम कान में धूल व अन्य कणों को इकट्ठा करने में सहायता करता है। 

हमारे कान में हे सबसे छोटी हड्डी पाई जाती है जिसे स्टेपीज नाम से जाना जाता है।

Exit mobile version