गंगा का पर्यायवाची शब्द | Ganga Ka Paryayvachi Shabd

गंगा का पर्यायवाची शब्द | Ganga Ka Paryayvachi Shabd : भागीरथी, विष्णुपदी, अलकनंदा, त्रिपथगा, नदीश्वरी, मंदाकिनी,देवापगा, जाह्ननी, देवसरि, सुरध्वनि, सुरसरि, ध्रुवनंदा, विष्णुपगा, अमरतरंगिनी, देवनदी, आज की नई पोस्ट गंगा का पर्यायवाची शब्द में आज इस पोस्ट के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे की गंगा का पर्यायवाची शब्द तथा साथ ही ग से पर्यायवाची शब्द | (Ganga Ka Paryayvachi Shabd in Hindi) के कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण के माध्यम से इस पोस्ट को पढ़ेंगे। 

Ganga ka paryayvachi Shabd kya hota hai.png
Ganga ka paryayvachi Shabd kya hota hai.png

पर्यायवाची शब्द किसे कहते हैं?

पर्यायवाची शब्द की परिभाषा : वह शब्द जो एक समान अर्थ (एक दूसरे की तरह अर्थ) रखते हैं। वो शब्द पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं।

चुंकि इनके अर्थ में समानता अवश्य रहती है लेकिन इनका प्रयोग विभिन्न प्रकार से होता है पर्यायवाची शब्दों को उसके गुण व भाव के अनुसार प्रयोग किया जाता है क्योंकि एक ही शब्द या नाम हर स्थान पर उपयुक्त नहीं हो सकता है ‘इच्छा’ शब्द के स्थान पर ‘कामना’ शब्द प्रयोग करना कितना शर्मनाक होगा आपको ऐसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए जो छोटे व प्रचलित हो।

गंगा का पर्यायवाची शब्द क्या होता है

गंगा का पर्यायवाची शब्दGanga Ka Paryayvachi Shabd
भागीरथी, विष्णुपदी, अलकनंदा, त्रिपथगा, नदीश्वरी, मंदाकिनी,देवापगा, जाह्ननी, देवसरि, सुरध्वनि, सुरसरि, ध्रुवनंदा, विष्णुपगा, अमरतरंगिनी, देवनदी, सुरनदी, सूरधुनी, सुरसरिताBhagirathi, Vishnupadi, Alaknanda, Tripthaga, Nadishwari, Mandakini, Devapaga, devsaree, surdhani, Saraswari, DhruvNanda, Vishnupaga, Amartrangini, Devnadi, Surnadi, Surdhuni, SurSavita

ग से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

  • गरुण – खगेश, नागान्तक, खगपति, पन्नगारि, उरगारि, हरियान, वातनेय, सुपर्ण, वैनतेय 
  • गाय – गइया, गौ, धेनु, गौरी, गऊ, सुरभि, भद्रा, दोग्धी
  • गुफा – गुहा, विवर, कन्दरा, गह्वर, 
  • गज – हाथी, हस्ती, हस्ति, कुंभी, कुजर, करि, गयन्द, मतंग, मातंग, वितुण्ड,
  • गणेश – गणपति, गजानन, लम्बोदर, विनायक, एकदन्त, विघ्न विनायक, मूषक वाहन, गणाधि, हेरम्ब द्वयमातुर, गजबदन, गिरिजा-नन्दन, गौरीसुत, मोदकप्रिय, महाकाय, भवानी-नन्दन
  • गंगा – देवनदी, नदीश्वरी, भगीरथी, मन्दाकिनी,जाह्नवी, सुरसार, देवसरि, त्रिपथगा, सुरध्वनि, अलकनन्दा, देवापगा, विष्णुपदी  
  • गृह – घर, मकान, आवास, आशियाना, भवन, सवन, मन्दिर, आलय, धाभ, निकेतन, निकेत, आगार, निलय, गेह, शाला, ओक, अयनशाला
  • गण – समूह, समुदाय, दूत, अनुयायी, अनुचर
  • गर्भाशय – बच्चेदानी, गर्भ, पेट, उदर, जठर 
  • गाँव – ग्राम, देहात, बस्ती, मौजा, पुरवा, 
  • गरीब – कंगाल, निर्धन, दरिद्र, अकिचन, दीन, 
  • गूढ़ – जटिल, कठिन, सलिष्ट, गहन, दुरुह, दुर्बोध, पेचीदा, 
  • गीला – भीगा, नम, आर्द, तर, क्लिग्न 
  • गदहा– गधा, खर, गर्दभ, धूसर, वैशाखनन्दन, रासभ, बेसर, चक्रीवान

गंगा से जुडे कुछ रोचक तथ्य

गंगा की बात करते ही हमारे दिमाग में एक ही बात click करती हैं। वह है गंगा नदी। गंगा नदी की बात करें तो गंगा को काफी पवित्र माना गया है। गंगा का मेला नवंबर महीने अधिकतर लगता है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लाखों व्यक्ति गंगा में स्नान करने आते हैं। माना जाता है कि गंगा में स्नान करने से हमारे सारे पापों का अंत हो जाता है। गंगा का पानी कभी नहीं सड़ता है। क्योंकि इसमें कुछ ऐसे पदार्थ पाए जाते हैं। जो गंगा नदी के पानी को कभी दूषित नहीं होने देता है। गंगा को भारतीय संस्कृति की पहचान माना जाता है। गंगा नदी भारत की प्राचीन नदियों में से एक है। गंगा गंगा की अनेक सहायक नदियां हैं। जो भारत के कई राज्यों से होकर गुजरती है। भारत की सबसे लंबी नदी के रूप में जाना जाता है।

गंगा का इतिहास– 

गंगा भगवान शिव की जटा से निकलती है।

यह नदी भारत, नेपाल, बांग्लादेश, से होकर उत्तराखंड में प्रवेश करती है।

गंगा नदी उत्तराखंड में हिमालय से होकर एक विशाल भू भाग सिचती है।

गंगा नदी अपनी सहायक नदियों के साथ 1000000 वर्ग किलोमीटर ज्ञेत्रफल के अति विशाल उपजाऊ मैदान का निर्माण करती हैं।

गंगा नदी को सबसे पुरानी नदी माना जाता है।

गंगा का वर्णन ऋग्वेद, पुराणों, रामायण, महाभारत इत्यादि में इनका वर्णन किया गया है।

गंगा नदी की लंबाई 2525 किलोमीटर है।

गंगा का उद्गम स्थल उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले से निकलती है। और भागीरथी से अलकनंदा नदी से आकर देवप्रयाग में मिल जाती है।

बाद में गंगा नदी नाम से आगे प्रवाहित की जाती है।

गंगा नदी का मुहाना

गंगा नदी का मुहाना या समापन से जुड़े काफी Questions पूछे जाते हैं।

गंगा नदी ब्रह्मपुत्र नदी के साथ मिलकर विश्व का सबसे बड़ा डेल्टा सुंदरवन डेल्टा का निर्माण करती है। सुंदरवन डेल्टा का निर्माण करके वह बंगाल की खाड़ी में गिरती है।

गंगा की सहायक नदी

गंगा की बहुत सी सहायक नदियां है जो गंगा में दाएं और बाएं दोनों तरफ से गिरती हैं‌।

गंगा की सबसे बड़ी सहायक नदी यमुना है यमुना की लंबाई  1376 km है। यमुना की सहायक नदी सिंधु, चंबल, बेतवा इत्यादि है।

गंगा में बाएं ओर से गिरने वाली सहायक नदी जो निम्नलिखित हैं- राम गंगा, गोमती, घाघरा, गंडक, कोषी, महानदी, सरयू, महाकाली, करनाली इत्यादि सहायक नदी है।

गंगा के दाएं ओर से गिरने वाली सहायक नदियां जो इस प्रकार हैं। यमुना, टोन्म, सोन आदि

गंगा बांग्लादेश में प्रवेश होने से पहले हुगली नदी का निर्माण करती हैं। जो पश्चिम बंगाल में बहती है। वह सीधी बंगाल की खाड़ी में गिरती है।

गंगा के उपनाम – गंगा के बहुत से ऊपर नाम होते हैं। जो इस प्रकार से हैं।

मंदाकिनी, भागीरथी, देवनदी, सुहावनी, पदमा आदि

गंगा को स्वर्ग में मंदाकिनी के नाम से जाना जाता है।

गंगा किन किन राज्यों में से निकलती है।

गंगा भारत देश के विभिन्न देशों से निकलती है जो इस प्रकार हैं।

उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल गंगा नदी की लंबाई उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक (1450 km) फैली है।

इसके बाद गंगा सबसे ज्यादा पश्चिम बंगाल में 520 km है

सबसे कम गंगा नदी उत्तराखंड में सिर्फ 110 किलोमीटर तक फैली है।

गंगा नदी के किनारे बसे शहर

गंगा नदी के किनारे बसे बहुत से शहर है जो निम्नलिखित हैं- ऋषिकेश, देवप्रयाग, सोरो कन्नौज, बिठूर, कानपुर, प्रयागराज, काशी (वाराणसी), मिर्जापुर, पटना, गढ़मुक्तेश्वर इत्यादि शहर बसे हैं।

गंगा नदी के किनारे बसे हैं बहुत से धार्मिक स्थल इसलिए बहुत पूर्ण गंगा को धार्मिक स्थल माना जाता है।

गंगा पर बनी बहुत सी परियोजनाएं हैं

गंगा नदी पर बने बांध या नदी परियोजनाएं राष्ट्रीय जनजीवन को सीधा प्रवाहित करते हैं। तथा या भारतीय अर्थव्यवस्था का महत्वपूर्ण अंग है।

दोस्तों में उम्मीद करता हूं कि आज इस गंगा का पर्यायवाची शब्द | Ganga Ka Paryayvachi Shabd क्या होता है को समझाने की संपूर्ण कोशिश की है।

गंगा का पर्यायवाची शब्द Ganga Ka Paryayvachi Shabd काफी परीक्षाओं में पूछा गया है। इसलिए मैं आपको गंगा के पर्यायवाची शब्द को इस दृष्टि से बताया है कि आपकी परीक्षा में यदि गंगा का पर्यायवाची आता है तो आप इसे आसानी से कर सकते हैं। यदि आपको गंगा का पर्यायवाची शब्द से संबंधित किसी भी प्रकार का कोई सवाल है। तो आप कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं।

Leave a Comment