द्विगु समास किसे कहते हैं? परिभाषा, उदाहरण व भेद | Dvigu Samas Kise Kehte Hain

स्वागत है दोस्तों आज की नई पोस्ट द्विगु समास (Divgu Samas) में आज इस पोस्ट के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे की द्विगु समास किसे कहते हैं?(Divgu Samas kise Kahate Hain) द्विगु समास के कितने भेद होते हैं? तथा साथी में द्विगु समास (Divgu Samas) के कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण के माध्यम से इस संपूर्ण पोस्ट को पढ़ेंगे।

समास हिंदी व्याकरण का एक महत्वपूर्ण अंग है हर परीक्षा में समास से सवाल पूछे जाते हैं आज हम महत्वपूर्ण टॉपिक द्विगु समास की बात करने वाले हैं। तो देरी न करते हुए जानते हैं कि द्विगु समाज किसे कहते हैं? (Divgu Samas Kise Kahate Hain) द्विगु की परिभाषा, भेद व उदाहरण के साथ

Dvigu Samas Kise Kehte Hain
Dvigu Samas Kise Kehte Hain

द्विगु समास की परिभाषा | Dvigu Samas Ki Paribhasha

जिस समास का पहला पद संख्या वाचक हो और वह संपूर्ण समुदाय या समूह का बोध करता हो उसे द्विगु समास कहते हैं। इस समास का विग्रह करने पर समूह या समाहार का प्रयोग करते हैं।

द्विगु समास के उदाहरण | Dvigu Samas Ke Udaharan

 

समाससमास विग्रह
नवरात्ररात्रियों का समाहार
चौराहाचार राहों का समाहार
त्रिफलातीन फलों का समाहार
अठन्नीआठ आनो का समाहार
तिरंगातीन रंगों का समाहार
दोपहर दो पहरो का समाहार
तिकोनातीन कोनो वाला
पंचवटीपांच वटो का समाहार
चौमासाचार मासो का समाहार
सप्ताहसात दोनों का समाहार
शताब्दीसौ वर्षों का समूह
शतकसौ का समाहार
चतुर्भुजचार भुजाओं का समाहार
त्रिभुवनतीन भवनों का समूह
सतसईसात सौ दोहों का समूह
पंचतंत्रपांच तंत्रों का समूह
पंचपात्रपांच पात्रों का समूह
त्रिरत्नतीन रत्नों का समूह
त्रिमूर्तितीन मूर्तियों का समूह
षडऋतुछ: ऋतुओं का समूह
दुपहियादो पहियों वाला
त्रिवेणीतीन नदियों का समाहार
द्विगुदो गायों का समूह
अष्टाध्यायीआठ अध्यायों का समूह
सप्तऋषिसात ऋषियों का समूह

द्विगु समास और कर्मधारय समास में अंतर

द्विगु समास में पहला पद संख्या वाचक हो और वह संपूर्ण समुदाय या समूह का बोध कराता हो उसे द्विगु समास कहते हैं।
बल्कि कर्मधारय समास के दोनों पदों में विशेषण विशेष से या उपमेय उपमान का संबंध होता है।

द्विगु समास को किसका उपभेद माना जाता है?

द्विगु समास को तत्पुरुष समास का उपभेद माना जाता है।

द्विगु समास में कौन-सा पद प्रधान होता है?

द्विगु समास में उत्तर पद (अंतिम पद) प्रधान होता है।

चौराहा : चार राहों का समाहार
पंचवटी : पांच वटों का समाहार
ऊपर दिए गए दोनों उदाहरणों का शुरू में लगे चौ, पंच पद संख्यावाची है इस उदाहरण का मुख्य अर्थ प्रकट कर रहे हैं। इसी कारण इसे द्विगु समास के उदाहरण में रखा जाएगा।

सतसई : सात सौ दोहों का समूह
सप्ताह : सात दोनों का समाहार
इन दोनों उदाहरणों में पूर्व पद संख्यावाची है। यह किसी न किसी समूह या समाहार का बोध कर रहे हैं जिससे यह उदाहरण द्विगु समास के अंतर्गत आएंगे।

नोट: तिरंगा तथा चतुर्भुज में द्विगु और बहुव्रीहि दोनों समास हैं।

छात्रों में उम्मीद करता हूं की आपको आज की यह पोस्ट द्विगु समास आपको पसंद आई होगी मैं इस पोस्ट में द्विगु समास के उदाहरण (Divgu Samas Ke Udaharan) के माध्यम से समझने की कोशिश की है जिससे आपको आसानी से समझ में आ जाए।

यदि आपको द्विगु समास (Divgu Samas) कि इस पोस्ट में किसी प्रकार की कोई शिकायत है। या आपको समास से संबंधित कोई सुझाव देना है तो आप हमें कमेंट सेक्शन या फिर ईमेल के माध्यम से सूचित कर सकते हैं मैं इस त्रुटि को जल्द से जल्द सुधारने का प्रयास करूंगा। आपके बहुमूल्य विचारों का इंतजार रहेगा। 

आपको द्विगु समास (Divgu Samas) कि यह पोस्ट अच्छी लगी है तो आप अपने मित्रों व परिवार के साथ इस व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर पर शेयर कर सकते हैं। धन्यवाद!

Leave a Comment