देवता का पर्यायवाची शब्द | Devta Ka Paryayvachi Shabd Kya Hota Hai

देवता का पर्यायवाची शब्द | Devta Ka Paryayvachi Shabd : अमर, सुर, वसु, आदित्य, देव, ईश्वर, परमात्मा, प्रभु, परमेश्वर, सर्वेश्वर, अनादि, जगदीश, अगोचर, ओम, ईश, अल्लाह, ब्रह्म, अलख आदि, आज की नई पोस्ट देवता का पर्यायवाची शब्द हिंदी में आज इस पोस्ट के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे की देवता का पर्यायवाची शब्द तथा साथ ही द से पर्यायवाची शब्द हिंदी में | ( Devta Ka Paryayvachi Shabd in Hindi) के कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण के माध्यम से इस पोस्ट को पढ़ेंगे।

Devta ka paryayvachi Shabd kya hota hai
Devta ka paryayvachi Shabd kya hota hai

पर्यायवाची शब्द किसे कहते हैं?

पर्यायवाची शब्द की परिभाषा : वह शब्द जो एक समान अर्थ (एक दूसरे की तरह अर्थ) रखते हैं। वो शब्द पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं।

चुंकि इनके अर्थ में समानता अवश्य रहती है लेकिन इनका प्रयोग विभिन्न प्रकार से होता है पर्यायवाची शब्दों को उसके गुण व भाव के अनुसार प्रयोग किया जाता है क्योंकि एक ही शब्द या नाम हर स्थान पर उपयुक्त नहीं हो सकता है ‘इच्छा’ शब्द के स्थान पर ‘कामना’ शब्द प्रयोग करना कितना शर्मनाक होगा आपको ऐसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए जो छोटे व प्रचलित हो।

देवता का पर्यायवाची शब्द क्या होता है?

देवता का पर्यायवाची शब्दDevta Ka Paryayvachi Shabd
अमर, सुर, वसु, आदित्य, देव, ईश्वर, परमात्मा, प्रभु, परमेश्वर, सर्वेश्वर, अनादि, जगदीश, अगोचर, ओम, ईश, अल्लाह, ब्रह्म, अलखAmar, Sur, Vasu, Aditya, Dev, Ishwar, Parmatma, Prabhu, parmeshwar, sarveshwar, anahi, Jagdish, agochar, Om, ees, Allah, Braham, alakh

 से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

  • देवता – देव, अमर, सुर, आदित्य, त्रिदश, निर्जर, विवुध, गीर्वाण, अमत्य
  • दूध – दुग्ध, पीयूष, क्षीर, पय, गोरस
  • दंग – चकित, हक्का बक्का, हैरान, आश्चर्यचकित, विस्मित, हतप्रभ 
  • दंगा – झगड़ा, फसाद, उत्पात, उपद्रव, ऊधम, 
  • दण्ड – जुर्माना, हर्जाना, अर्थदण्ड, सजा
  • दक्ष – चतुर, होशियार, प्रवीण, कुशल, निपुण, पारंगत, निष्णात
  • दबाव – जबरदस्ती, जोर, बल प्रयोग, दमन, जबर
  • दमक – चमक, जगमगाहट, दीप्ति, आभा, कान्ति, द्युति
  • दमन – नियंत्रण, रोक, वश, अवरोध, निग्रह
  • दया – तरस, रहम, करुणा, अनुकम्पा
  • दयामय – दयालु, कृपालु, दयावान, करुणामय, कृपानिधि, मेहरबान, 
  • दयाहीन – बेरहम, निर्दयी, बेदर्द, करुणाहीन, हृदयहीन, पाषाण हृदय, कठोर हृदय
  • दरबान – चौकीदार, द्वारपाल, प्रतिहार, चोबदार, प्रतिरक्षक
  • दरवाजा – किवाड, कपाट, पल्ला, द्वार
  • दरार – फटन, कटाव, चीर, फटाव, कटाव, कटान
  • दर्जा – रुतबा, पद, ओहदा, पदवी, मर्तबा 
  • दर्प – गर्व, घमंड, अहंकार, अभिमान, दंभ
  • दर्द – पीड़ा, तकलीफ, व्यथा, यातना, यन्त्रणा, 
  • दर्शन – मुलाकात, आमना-सामना, भेंट, साक्षात्कार, 
  • दल – समूह, गिरोह, गुट, संघ, यूथ, जत्था, दस्ता, टुकड़ी
  • दलना – मांडना, पीसना, मसलना 
  • दाँव – चाल, दाँव-पेच, घात, युक्ति, जुगुत 
  • दाग- धब्बा, कलंक, दोष, लाछन, ऐब 
  • दादा- बाबा, पितामह, आजा
  • दानव – राक्षस, असुर, निशाचर, दैत्य, शंबर 
  • दास – नौकर, चाकर, सेवक, भृत्य, परिचर, अनुचर, किंकर, परिचायक, परिचर 
  • दासी – नौकरानी, बाँदी, अनुचरी, किंकरी, परिचायिका
  • दिखावटी – नकली, बनावटी, दिखाऊ, आडम्बरी, दर्शनी 
  • दिव्य – अलौकिक, लोकोत्तर, लोकातीत, स्वर्गिक
  • दीपावली – दीवाली, दीपोत्सव, प्रकाशोत्सव, दीपमाला, दीपमालिका
  • दीन- दरिद्र, निर्धन, कंगाल, रंक, अकिंचन, 
  • दुःखी – पीड़ित, व्यथित, आर्त, सतत, 
  • दुबला – कमजोर, दुर्बल, निर्बल, कृश, तन्वी, कृशकाय
  • दामिनी – चपला, चंचला, तडित, पीत-प्रभा, प्रभा
  • दिन – दिवस, वार, वासर, दिवा, अह्न 
  • दिनांक – तिथि, तारीख, मिति
  • द्विज – ब्रह्मज्ञानी, ब्राह्मण, वेदविद् 
  • दुस्तर – कठिन, विकट,अगम्य, औघट
  • दुःख – कष्ट, पीडा, शोक, संकट, खेद, व्यथा, क्लेश, उत्पीड़न, वेदना, क्षोभ, यातना, उद्वेग, यन्त्रणा, उत्पीड़न, विषाद, सन्ताप, 
  • द्रौपदी – पांचाली, कृष्णा, द्रुपदसुता, याज्ञसेनी।
  • द्वेष – ईष्या, विरोध, जलन, दुश्मनी, शत्रुता, बैर, खार, डाह
  • दर्पण – शीशा, आईना, प्रतिमान, आरसी, मुकुर
  • दुर्गा – दुर्गे, चण्डी, शक्ति, महागौरी, भवानी, चण्डिका, नारायणी, सिहवाहिनी, कालिका, कल्याणी, दुर्गभ, कुमारी, दुर्गमेश्वरी, कामाक्षी, सुभद्रा, भगवती, दुर्गम्या, महामाया, दुर्गया, दुर्गातिशमनी, दुर्गमीमा, दुर्गमोहा, दुर्गापद्धिनिवारिणी, दुर्गमच्छेदनी, दुर्गसोधिनी, दुर्गनाशिनी, दुर्गतोदारिणी, दुर्गनिहन्त्री, दुर्गमापहा, दुर्गमज्ञानदा, दुर्गदत्यलोकदवानला, दुर्गमालोका, दुर्गभ्रामा, दुर्गदारिणी, दुर्गमात्मस्वरूपिणी, दुर्गमार्गप्रदा, दुर्गमविद्या दुर्गमाश्रिता, दुर्गमज्ञान संस्थाना, दुर्गमध्यानभासिनी, दुर्गमग्रा, दुर्गमार्थस्वरूपिणी, दुर्गमासुर संहन्त्री, दुर्गमायुधधारिणी, दुर्गमाङ्गी दुर्गमता
  • दिल – हृदय, जिगर, जिगरा, जी, चित्त, मन, कलेजा, उर, अन्तःकरण 
  • दुर्जन – दुष्ट, असन्त, असज्जन, खल, धूर्त पिशुन 
  • दुर्बोध – जटिल, कठिन, क्लिष्ट, दुरूह, गूढ़
  • दुर्लभ – नायाब, विरल, अप्राप्त, दुष्प्राप्य, अलभ्य
  • दुविधा – धर्मसंकट, असमंजस, कश्मकश, उहापोह, आगापीछा, 
  • दृढ़ – पक्का, अटूट, तगड़ा, पुष्ट मजबूत, 
  • देह – मूर्ति, तनु, काया, वपु, कलेवर, विग्रह, 
  • दाँत – दन्त, द्विज, मुखक्षुर, दशन, रदन, रद
  • देवबाला – अप्सरा, देवनारी, देववधू, सुरनारी, अमरनारी, देवांगना, सुरबाला, 
  • दोष – बुराई, खराबी, अवगुण, ऐब, दूषण
  • दोषी – अपराधी, कसूरवार, अपचारी, अभियुक्त

देवता से जुडे कुछ रोचक तथ्य

Devta Ka Paryayvachi Shabd

देवता – जिसके हम पूजा करते हैं। जिस पर हम विश्वास रखते हैं। उसे देवता कहते हैं।

जैसे- हमारे धर्म अलग-अलग हैं। उसी प्रकार हमारे देवता भी अलग अलग है। हम अपने अपने देवताओं की पूजा करते हैं।

ऋषि-मुनियों ने सर्वप्रथम चार वेदों की रचना की- ऋग्वेद, समावेद, यजुर्वेद और अथर्ववेद जिसमें यजुर्वेद सबसे पुराना है।

वैदिक धर्म में देवताओं के मूर्ति जिसकी कल्पना मिलती है।

हिंदू धर्म में कोई भी व्यक्ति अपनी मर्जी के अनुसार अपने देवता का चयन कर सकता है। शास्त्रों में इस व्यवस्था की बात बताई गई थी कि वह अपने कार्य के उद्देश्य के अनुसार भी देवता की उपासना कर सकता है। 

ईश्वर एक है। जिसके अनेक प्रकार के नाम है। धर्म की रक्षा और अधर्म का नाश करने के लिए भगवान बार-बार धरती पर अवतार लेते हैं।

देवी देवताओं की शक्ति एवं सामर्थ के बारे में वेद और पुराणों में वर्णित किया गया है।

Leave a Comment