STUDYROOT

अमृत का पर्यायवाची शब्द | Amrit Ka Paryayvachi Shabd Kya Hota Hai

अमृत का पर्यायवाची शब्द | Amrit Ka Paryayvachi Shabd : सुधा, अमी, सोम, पीयूष, अमिय,मधु, सुरभोग, जीवनोदक, शुभा, आबेहयात, देवाहार आदि, आज की नई पोस्ट अमृत का पर्यायवाची शब्द हिंदी में आज इस पोस्ट के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे की अमृत का पर्यायवाची शब्द तथा साथ ही अ से पर्यायवाची शब्द हिंदी में | (Amrit Ka Paryayvachi Shabd in Hindi) के कुछ महत्वपूर्ण उदाहरण के माध्यम से इस पोस्ट को पढ़ेंगे।

Amrit ka paryayvachi Shabd kya hota hai.png
Amrit ka paryayvachi Shabd kya hota hai.png

पर्यायवाची शब्द किसे कहते हैं?

पर्यायवाची शब्द की परिभाषा : वह शब्द जो एक समान अर्थ (एक दूसरे की तरह अर्थ) रखते हैं। वो शब्द पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं।

चुंकि इनके अर्थ में समानता अवश्य रहती है लेकिन इनका प्रयोग विभिन्न प्रकार से होता है पर्यायवाची शब्दों को उसके गुण व भाव के अनुसार प्रयोग किया जाता है क्योंकि एक ही शब्द या नाम हर स्थान पर उपयुक्त नहीं हो सकता है ‘इच्छा’ शब्द के स्थान पर ‘कामना’ शब्द प्रयोग करना कितना शर्मनाक होगा आपको ऐसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए जो छोटे व प्रचलित हो।

अमृत का पर्यायवाची शब्द क्या होता है?

अमृत का पर्यायवाची शब्दAmrit Ka Paryayvachi Shabd
सुधा, अमी, सोम, पीयूष, अमिय,मधु, सुरभोग, जीवनोदक, शुभा, आबेहयात, देवाहारSudha, ammi, Som, Piyush, Amiy, Madhu, Surbhog, Jivnodak, Subha, Abehayat, Devahar

से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

अमृत से जुडे कुछ रोचक तथ्य

Amrit ka paryayvachi Shabd bataiye

सुधा– सुधा किसी लड़की का नाम हो सकता है परंतु यहां पर सुधा को अमृत की संज्ञा दी गई है।

मधु– मधु शहद को कहते हैं। क्योंकि शहद मधुमक्खियों की कड़ी मेहनत से बनता है। यह बहुत ही मीठा व स्वादिष्ट होता है। इसीलिए इसको अमृत की संज्ञा दी गई है।

जीवनोदक– इसे जीवनोदक इसलिए कहते हैं क्योंकि अमृत के विषय में ऐसा कहा जाता है कि इसका सेवन करने वाला व्यक्ति कभी भी मरता नहीं है।

सुरभोग– अमृत को सुरभोग इसलिए कहते हैं। कि सुरों को अमृत बहुत ही प्रसंद है।

अमृत के लिए देवताओं और असुरों के बीच 12 दिन तक संघर्ष चलता रहा है। इसी अमृत की होड़ में अमृत के कुछ बूंद पृथ्वी पर जा गिरी जिसकी वजह से हरिद्वार, नाशिक, प्रयाग व उज्जैन का निर्माण हुआ इसी कारण इन स्थानों पर प्रत्येक 12 वर्ष में कुंभ का आयोजन करवाया जाता है।

Exit mobile version